Our history2018-02-08T11:08:32+00:00
यह सब कृषि के अंतर्गत आता है!

अपने दादा के आलू और सुअरों के खेत से प्रेरित होकर और एक मजबूत नैतिक कार्य व संरचित शिक्षा से सुसज्जित होकर, मार्क ने अपने स्कूल के समय के बाद ही कृषि के मार्ग को अपनाने का चुना ।

हार्पर एडम विश्वविद्यालय कॉलेज में मार्क की आगे की शिक्षा ने उसके भविष्य और जुपिटर ब्रांड के कई दरवाजे खोल दिए। वह युवान, एक बीफ किसान की बेटी, से मिला और अब व्यवसाय का अभिन्न अंग बन गया और पीडीएम उत्पादन का काम करने चला गया जहां उसकी मुलाकात अपने व्यापारिक सहयोगी फिलिप मैडॉक्स से हुई ।

अपनी कार्यकुशलता के कुछ सालों के अच्छे अनुभव के साथ मार्क ने जुपिटर की कहानी शुरू की ।

तो यह इस प्रकार शुरू होती है …

हमारी अब तक की कहानी

  • 2003

    2003

    जुपिटर का जन्म!

  • 2004

    2004

    स्थान परिवर्तन और कस्टम पैक हाउस का निर्माण

  • 2008

    2008

    अंतर्राष्ट्रीय बिक्री की शुरूआत

  • 2009

    2009

    नैंसी ट्वेडल फाउंडेशन का निर्माण

  • 2010

    2010

    निर्यात लाइसेंस के साथ केपटाउन कार्यालय की शुरुआत

  • 2012

    2012

    हमारा तैयार फ्रूट ब्रांड फ्रूटेनिज की शुरूआत हुयी

  • 2013

    2013

    निर्यात लाइसेंस के साथ चिली में कार्यालय खुला

  • 2014

    2014

    भारत में पहला फ़ार्म मिला

  • 2016

    2016

    120 हा चिलीयन फार्म सुरक्षित किया
    चिली में मेलायन (इनिया ग्रेपवन) पैदा करने का लाइसेंस
    भारत में केवल आरा किस्मों को पैदा करने के लिए लाइसेंस जारी किया
    अनाचिल बोर्ड सदस्यता शुरू हुयी
    ग्रीस में मेयालन (इनिया ग्रेपवन) में मास्टर लाइसेंस के लिए हस्ताक्षर किए

  • 2017

    2017

    साउथ अफ्रीका में पहला स्टोन फ्रूट फार्म मिला
    ग्रीस के फार्मों में 31 हा की नई किस्में
    ग्रीस में आरा की किस्मों में विशिष्टता

  • 2015

    भारत के मेलायन (इनिया ग्रापोन) के लिए मास्टर लाइसेंस पर हस्ताक्षर किए

  • 2018

    2018

    नामीबिया में पहला अंगूर का फार्म सुरक्षित किया